लॉकडाउन के दौरान सभी शादियां रद्द, यूपी और बिहार में अॉनलाइन निकाह!

21 दिनों के पूर्ण लॉकडाउन के सख्त होने के कारण, अगले एक महीने के दौरान होने वाली लगभग सभी मुस्लिम शादियों को स्थगित कर दिया गया है।   अप्रैल के  महीने और ईसाई महीने के अप्रैल महीने के दौरान हजारों शादियां की जानी थीं। लेकिन लगभग सभी को स्थगित कर दिया गया है।     …

लॉकडाउन के दौरान सभी शादियां रद्द, यूपी और बिहार में अॉनलाइन निकाह!
21 दिनों के पूर्ण लॉकडाउन के सख्त होने के कारण, अगले एक महीने के दौरान होने वाली लगभग सभी मुस्लिम शादियों को स्थगित कर दिया गया है।   अप्रैल के  महीने और ईसाई महीने के अप्रैल महीने के दौरान हजारों शादियां की जानी थीं। लेकिन लगभग सभी को स्थगित कर दिया गया है।       क़ाज़ी हबीब अहमद बिन सलाम अलतास के अनुसार, जो चंद्रांगुट्टा में और उसके आसपास निकाह को अंजाम देता है, लोग उसे शादी के स्थगन के बारे में सूचित करने के लिए फोन कॉल कर रहे हैं। अनिश्चितता के कारण, अभी नई तारीखें तय नहीं की जा रही हैं।     अलीजाह कोटला के एक व्यवसायी शब्बीर अहमद ने बताया कि उनके भाई की शादी अप्रैल के दूसरे सप्ताह में तय हुई थी। “सौभाग्य से हमने अभी तक निमंत्रण कार्ड वितरित नहीं किए थे। हम एक नई तारीख तय करेंगे। ” उसने कहा।   खानपान व्यवसाय चलाने वाले मोहम्मद इरफान ने बताया कि रमजान तक कई लोगों ने शादियां स्थगित कर दी हैं।   कोरोनावायरस से लड़ने के लिए लगाए गए लॉकडाउन के कारण, पारंपरिक विवाह समारोह अब तक असंभव लग रहे हैं। हालांकि, लोग बिहार और यूपी के उन जोड़ों से ऑनलाइन निकाह करने का विकल्प चुन सकते हैं, जिन्होंने वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए लंबी दूरी की शादी के लिए तकनीक का रास्ता चुना।   अॉनलाइन निकाह अमर उजाला पर छ्पी खबर के अनुसार, यूपी के हरदोई जिले में टड़ियावां गांव में दो बहनों के प्रस्तावित निकाह में से एक का निकाह परिजनों को टालना पड़ गया। जबकि छोटी बेटी का निकाह वीडियो कॉलिंग के जरिए ऑनलाइन संपन्न कराया गया।   टड़ियावां निवासी यासीन की दो बेटियों चांदनी व महजबीन बानो का निकाह तीन माह पूर्व ही तय हो गया था। दोनों बेटियों का निकाह 25 मार्च को होना था।   यासीन व परिजनों ने दोनों बेटियों के निकाह के लिए लगभग सभी तैयारियां पूरी कर ली थीं। बुधवार को बरातियों के स्वागत व उनके खाने के लिए खाना भी बनवाना शुरू कर दिया।   इधर पिता यासीन व भाई शमीम ने बड़ी बेटी चांदनी के होने वाली दूल्हे चांद मोहम्मद पुत्र दीन मोहम्मद निवासी ग्राम गुजरई कोतवाली बिलग्राम व उसके परिजनों से की तो उन लोगों ने लॉकडाउन का हवाला देते हुए बरात लेकर आने में असमर्थता जताई।   हिन्दुस्तान लाइव पर छपी खबर के अनुसार, बिहार के बेगूसराय जिले में दोनों बहनों का आॉनलाइन हुआ निकाह चर्चा का विषय बना है।   बलिया नगर पंचायत के वार्ड नंबर पांच निवासी वली अहमद कुरैशी उर्फ छोटे कुरैशी की दो बेटियों का निकाह बुधवार की शाम चार बजे मदरसा दारउल उलूम जकरिया के सदर मुद्दसीर व मीरशिकार टोला मस्जिद के इमाम मुफ्ती मो. अहसन के द्वारा निकाह पढ़ाया गया।   छोटे कुरैशी की तीसरी बेटी नगमा परवीन का निकाह नालंदा के अगामा निवासी मो. मंजूर कुरैशी का पुत्र शमशेर कुरैशी से व चौथी बेटी राहत परवीन का निकाह गया के अबगिला जगदीश पुर निवासी कलीम कुरैशी मरहूम के पुत्र शहनवाज अख्तर कुरैशी से पढ़ाया गया।   मौके पर हाफिज नफीस, वार्ड पार्षद पति मो. अफाक समेत कई लोग मौजूद थे। निकाह की रस्म अदायगी के बाद एक दूसरे को मुबारकबाद दिया।